page contents

computer kya hai – कंप्यूटर का इतिहास क्या है

https://smartlyhindi.com/computer-kya-hai/

हेल्लो फ्रेंड्स आपको पता है की computer kya hai इनका इतिहास क्या है और इसका उपयोग क्या है और computer कितने प्रकार के होते है और computer में क्या क्या पार्ट्स होते है computer की बेसिक जानकारी में आपको बताउगा तो चलिए स्टार्ट करते है

दोस्तों computer kya hai ये बताने से पहेले में आपको ये बताना चाहुगा आजके ज़माने में computer के बिना काम करना थोड़ा मुस्किल हो गया है computer ऐक ऐसा जरिया है जो आपको अपने काम को आसान बनाने में हेल्प करता है और इसका काम भी थोड़ा तेजी से होता है

और हा computer क्या है ये आप बांध के नहीं रख सकते है इसका उपयोग अलग-अलग कार्यो करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है जैसे की आप ऐक गेम खेलने वाले से पूछेगे तो ये आपको बताएगा की computer तो गेम मशीन है और आप ऐक computer में टाइपिंग करने वाले से पूछेगे तो ये आपको ये बताएगा की computer ऐक टाइपिंग मशीन है इसलिए computer के अलग-अलग use है

कंप्यूटर क्या है (what is computer in hindi)

computer ऐक प्रोग्रामेबल (programmable) इलेक्ट्रॉनिक उपकरण (device) है जो बिजली के जरिए चलता है  computer को हम इलेक्ट्रॉनिक मशीन (machine) भी कहते है computer ऐक ऐसा इलेक्ट्रॉनिक मशीन  है जो user (computer को चलाने वाला) के जरिए दिया गया आदेश पर प्रोसेस करके उसका परिणाम को दिखाना

computer को हम आसान सब्दो में बताये तो computer के मुख्य तिन काम होते है इसमे से पहेला काम है data को लेना user के जरिए दिया गया data को हम input कहेते है और दूसरा काम होता है input किया गया data को processing करना और लास्ट में आता है processing किया हुआ data को output में दिखाना

 

कंप्यूटर का फुलफॉर्म क्या है (what is the full name of computer)

वैसे तो computer के कई सारे फुलफॉर्म होते है लेकिन में आपको जो मैंने फुलफोर्म है ये समजा देता हु

  • C = COMMON (साधारण या सामान्य)
  • O = OPERATING (संचालन)
  • M = MACHINE (यंत्र या मशीन)
  • P = PARTICULARLY (विशेष रूप)
  • U = USED (उपयोगी)

·        T = TECHNOLOGY (टेक्नोलॉजी)

  • E = EDUCATION (शिक्षा)
  • R = RESEARCH (अनुसंधान)

Common Operating Machine Particularly Used Technology Education Research

कंप्यूटर का इतिहास – (computer history in hindi)

computer शब्द की शोध compute शब्द से हुई है compute शब्द का अर्थ होता है गणना करना  computer का आविष्कार पहेले गणित के प्रश्नो को हल करने के लिए बनाया गया था पहेले computer का उपयोग गणना करने में ही काम लिए जाते थे

दस्तो computer का इतिहास में तो कई सारे शोधकर्ता अपना योगदान दिया है और computer का आविष्कार तो कई साल पुराना है और दुनिया में जो पहेला computer आया था उसे calculations करने में उपयोग किया जाता था ये computer लकडियो से और लोहे की पट्टियो से बनाया था इसके बाद कई सारे शोधकर्ताओ ने इसकी मदद से और भी बदलाव लाये और जैसे जैसे समय बीतता गया और भी computer का आविष्कार हुआ

जैसे की मेने बताया की computer का आविष्कार करने में काफी सारे शोधकर्ताओ अपने अपने अलग-अलग computer बनाए है लेकिन में आपको मैंने मैंने computer के बारे बताना चाहुगा जिसे बनाने वाले शोधकर्ता को हम computer का पिता कहते है जिहा दोस्तों (father of moden computer) इस इंसान का नाम था चार्ल्स बैबेज (charles babbage) हा दोस्तों इसी इंसान ने computer को moden computer में बदला है और इन्ही की वजह से आज आपको computer को आसान तरीको से चला सकते है

चलिए अब computer history में आने वाले computer को एक एक करके समजते है

एनालिटिकल इंजन (Analytical engine) – को 1822 चार्ल्स बैबेज ने बनाया है उन्होंने डिफरेंस इंजन का आविष्कार किया ये computer में गणना (calculations) और प्रिंट भी किया जाता था और ये computer पंच कार्ड से चलता था और उन्होंने 1842 ऐक और computer का आविष्कार किया इसका नाम था एनालिटिकल इंजन (Analytical engine) और ये स्वचालित मशीन भी कहा जाता था ये computer पूरा स्वचालित रूप में काम करता था और तभी computer में पहला प्रोग्राम डाला गया था

सेंसेस टेबुलेटर (census tabulator) – 1890 में ये computer को अमेरिका के वैज्ञानिक हर्मन होलेरिथ ने बनाया था और ये computer ऐसा पहेला computer था बिजली के जरिए चलता था ये इसे पहेले computer कोई हाथ या भाप से चलाने वाले हुआ करते थे

मार्क 1 (mark 1) – मार्क 1 को साल 1937 में हॉवर्ड एच.एकेन (Howard H. Aiken) द्वारा शोध की गई IBM (international Business Machine) कंपनी की मदद से ये computer को बनाया गया और ये computer को उन्नत गणतिया भौतिक समस्याओ को हल करने में उसको लाया गया ये computer पूरी तरह से इलेक्ट्रॉनिक से चलने वाला computer था

ए बी सी (ABC- Atanasoff Berry Computer) – साल 1937-42 ABC computer का अविष्कार जॉन विनसन एटनासॉफ (John Vincent Atanasoff) द्वारा किया गया था ये दुनिया का पहेला डिजिटल computer था

एनिएक (ENIAC- Electronic Numerical Integrator And Calculator) ENIAC computer पूरी तरह से इलेक्ट्रोनिक से चलने वाला डिजिटल computer था ENIAC बड़ी मात्रा में उपयोग संगणना की समस्याओ को हल करने में किया जाता है यह computer ज्यादा बड़े होते थे यह computer की स्पीड ज्यादा तेज थी 1946 में जॉन मुचली और जे.पी.एकर्ट (John Mauchly And J.P.Eckert) मिलकर इस computer का अविष्कार किया था  इसके बाद भी कई सारे computer जैसे की (EDVAC, UNIVAC, उसके बाद MICRO PROCESSOR आया और APPLE II ) का आविष्कार हुआ है लेकिन जो हम हाल के समय में जो computer को use कर रहे है ये PC-(Personal Computer) के बारे में जान लेते है

पर्सनल कंप्यूटर (Personal Computer) –का आविष्कार साल -1981 में हुआ था और इसे IBM माइक्रो प्रोसेसर कंपनियों के द्वारा प्रथम पर्सनल कंप्यूटर बनाया गया था और इसे इसके बाद तो कई सारी कंपनिया आई और अपने अपने personal computer को लाये गए

कंप्यूटर के प्रकार (types of computer in hindi)

computer के प्रकार में मुख्य तिन तरह के computer होते है application (अनुप्रयोग) purpose (उदेश्य) size (आकार) ये तीनो भागो में सब computer आते है ये सभी computer को अलग अलग कार्यो करने के लिए बनाए गए है

कंप्यूटर काम केसे करता है

वैसे तो computer को काम करने के लिए कई सारे hardware और software की मदद लेनी पड़ती है इसमें ऑपरेटिंग सिस्टम को इंस्टोल करना पड़ता है तभी ऐक computer user computer बनता है  और फिर computer में पहेले data को input किया जता है और computer इस data पर processing करता है और processing हुआ data को output के रूप  में monitor के जरिए आपको दखाया जाता है  इसी तरह computer काम करता है

  • input
  • process
  • output

input: का मतलब होता हा user के द्वारा computer में data को डाला जाता है या आदेश दिया जाता है की ये करना है  input data किसी भी तरह का हो सकता है जैसे की विडियो फाइल या कोई वर्ड फाइल या कोई चित्र भी हो सकता है

input डिवाइस: keyboard, mouse, scanner,microphone

process: जब हम किसी भी data को computer में input करते है वो data computer में लगा processer यानि माइक्रो चीप में processing होता है और तभी आपको उसका रिजल्ट मिलता है ये प्रक्रिया तेजी से होती है

output: जब processing हुआ data को रिजल्ट वापस दिखया जाता है use हम output बोलते है ये काम जब हम data को input करते है और इस पर processing होती है और जब हम स्क्रीन पर या मोनिटर पर output दिखया जाता है या दिया गया आदेश पर रिजल्ट देख सकते है 

output डिवाइस: monitor, printer, speakers, headphones

ऐक computer कई सारे डिवाइस से मिलकर बना होता है इसमें कई सारे प्रोग्राम डाले जाते है और कई सारे उपकरण को जोडके ऐक बेसिक computer को बनाया जाता है

computer को मुख्य दो भागो में बाटा गया है

  • hardware
  • software

कंप्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेर क्या है (hardware and software in hindi)

hardware क्या है : हार्डवेयर computer का वे भाग होता है जिसे हम स्पर्स कर सकते है या इसे हम देख कर महेसुस कर सकते है चलिए अब हार्डवेयर क्या क्या उपकरण आते है वैसे तो computer में कई सारे hardware आते है लेकिन में आपको जो इंपोटेंट hardware होते है जो computer साथ होते है इस हार्डवेयर की जानकारी दुगा

  • system unit (सिस्टम यूनिट)
  • monitor (मॉनिटर)
  • keyboard (कीबोर्ड)
  • mouse (माउस)

system unit (सिस्टम यूनिट)

सिस्टम यूनिट computer का मुख्य भाग होता है इसमें सभी हार्डवेयर से जुडा होता है जैसे monitor mouse keyboard speakers printer इसे भी अधिक hardware को जोड़ा जा सकता है सिस्टम यूनिट को हम cpu भी कहते है सिस्टम यूनिट बॉक्स की तरह होता है इसमे भी कई सारे हार्डवेयर लगे होते है जो ऐक computer को संचालित करते है जैसे की modherboard CPU (central processing unit -सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट) ram और rom हार्डडिस्क मेमोरी cd ड्राइव और कई सारे छोटे छोटे पार्ट्स होते है

monitor (मॉनिटर)

monitor computer का output डिवाइस है जो ये computer में input किया गया data को output के रूप में monitor में देख सकते है ये ऐक टीवी के जैसा होता है

keyboard (कीबोर्ड)

keyboard computer का वो उपकरण है जिसे हम computer में टाइपिंग कर सकते है keyboard की मदद से हमें computer में कोई वर्ड्स या अकड़ा और कई सारे शोर्टकट key होती है  और हम computer में आसानी से काम कर सकते है keyboard computer का input डिवाइस है keyboard का उपयोग दस्तावेज को टाइपिंग करने के लिए गेम खेलने के लिए और कई सारे मेनू का उपयोग कर सकता है और भी अन्य कार्य कर सकते है keyboard computer डेस्कटॉप और leptop के हिसाब से डिजाइन होते है

 mouse (माउस)

माउस computer का input डिवाइस है जिसे हम पॉइंटर भी कहा जाता है माउस को हम हाथ से चलाते है  माउस का उपयोग computer की स्क्रीन में वस्तुओ का हेरफेर करने के लिए किया जाता है माउस computer को निर्देश भेजता है ताकि computer के सॉफ्टवेर और अन्य कामो को कर्सर के जरिए स्थानातर करता है माउस को जब हम सिस्टम यूनिट में जोड़ते है तो computer स्क्रीन पर ऐक छोटा सा कर्सर दिखाई देता है ये माउस का पॉइंटर है माउस में दो बटन आते है ऐक left click और दूसरा right click और सेन्टर में स्क्रॉल व्हील दिया होता है इसे हम स्क्रीन को ड्रॉपडाउन कर सकते है

software क्या है

 computer में जैसे hardware जरुरी है वैसे software भी जरुरी होता है software computer का वे भाग है जिसे हम देख सकते है और इसे चला सकते है software को computer के कार्य को सिम्पल बनाने के लिए बनाया जाता है और कई सारी software कंपनिया software को ऐक काम करने के लिए बनाया जाता है software का मतलब होता है की कई अलग अलग काम करने के लिए अलग अलग software का निर्माण होता है

software को दो प्रकार में बाटा गया है

  • system software (सिस्टम सॉफ्टवेर)
  • application software (एप्लीकेशन सॉफ्टवेर)

दोस्तों आपने जाना की “computer kya hai” और इसके क्या प्रकार है क्या use है में आशा करता हु की आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो और आपका कोई प्रश्न है तो जरुर हमें कमेन्ट करिए या contact के जरिए हमें बताये इसे क्या होगा की हमें और काम करना का जूनून मिलेगा इसे भी अच्छी जानकारी पोस्ट कर सके अगर हमारी जानकारी आपको पसंद आए तो facebook twitter जैसे social accunts में शेर करे.   

2 Comments

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *